डायन मीडिया ने ठीक कहा कि ये सब 'कोरोना बम' हैं

"इसलिए जो लोग ये अफवाह उड़ा रहे हैं कि मोदी जी ने ये लॉकडाउन अचानक किया, जिसमें निज़ामुद्दीन मरकज़, गुरुद्वारे, वैष्णो देवी, तिरुपति और अनेक तीर्थस्थानों पे -कोरोना बम- (श्रद्धालु नहीं) फंस गए, उनको पहचानिए"

Nadim S. Akhter


निज़ामुद्दीन मरकज़ या किसी गुरुद्वारे या किसी मंदिर या अन्य तीर्थस्थान/धार्मिक आयोजन में -छिपे- लोगों (श्रद्धालु ना कहें, #डायन #मीडिया को बुरा लगता है) को हरगिज़ डिफेंड नहीं किया जा सकता। भारत के डायन मीडिया ने ठीक कहा कि ये सब -कोरोना बम- हैं। इन सबके खिलाफ गंभीर आपराधिक धाराओं में केस दर्ज हो और सबकी जांच हो कि सरकार द्वारा महीनों पहले से plan किए गए lockdown की घोषणा के बावजूद ये घर से कैसे निकले? 


कौन कहता है कि #पीएम ने अचानक #लॉकडाउन किया, रात के 8 बजे और देश में जो जहां था, वहीं फंस गया? अचानक कुछ नहीं हुआ, सबकुछ पहले से महीनों पहले जनता को बता दिया गया था। तभी, जब चीन में भी ये वायरस नहीं निकला था। इसलिए जो लोग ये अफवाह उड़ा रहे हैं कि मोदी जी ने ये लॉकडाउन अचानक किया, जिसमें निज़ामुद्दीन मरकज़, गुरुद्वारे, वैष्णो देवी, तिरुपति और अनेक तीर्थस्थानों पे -कोरोना बम- (श्रद्धालु नहीं) फंस गए, उनको पहचानिए। ये गलत बोल रहे हैं। मैं डायन भारतीय मीडिया की कसम खाकर कहता हूँ कि ये झूठ है... झूठ है.. झूठ है..!!!


Post a comment

0 Comments