मेरा अनुमान सही निकला, आर्थिक पैकेज भी मिला और लॉकडाउन-4 भी आएगा

Nadim S. Akhter 13 May 2020


पीएम नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज का ऐलान कर दिया, जो हमारी जीडीपी का 10 फ़ीसदी होगा। साथ ही #LockDown4 का ऐलान भी हो गया, जो नए रंग-रूप वाला होगा और इसकी घोषणा 18 मई से पहले हो जाएगी। 


पीएम मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन की ख़ास बात यही रही। पर हमारे प्रधानमंत्री जी ने शुरुआती 17 मिनट तक मुझ जैसे देशभक्त नागरिक को पका दिया। इंटरनेट पर टीवी देखता हूँ और डाटा लिमिटेड है मेरे पास, उसके बाद भी 17 मिनट तक लगातार पीएम को सुनता रहा, इस आशा में कि राष्ट्र के लिए कुछ अच्छी-अच्छी घोषणाएँ होंगी, देशभक्ति का इससे बड़ा सबूत क्या दूँ आपको। खैर !

अपने मुँह मियाँ मिट्ठू बनना मेरी आदत नहीं पर कल दिन में पीएम के आज के संबोधन के बारे में मैंने जिन बातों का ज़िक्र किया था, मुझे आपको ये बताते हुए ख़ुशी हो रही है कि पीएम ने ठीक उसी लाइन पर अपनी बात कही।

1. पहली बात। मैंने लिखा था कि देश का उद्योग जगत आर्थिक पैकेज की माँग कर रहा है और ये सरकार भी जानती है कि सिर्फ़ पैकेज देने से काम नहीं चलेगा। अर्थव्यवस्था के हर सेक्टर को -दो बूँद ज़िंदगी की- मिलनी चाहिए।

पीएम ने क्या कहा- प्रधानमंत्री ने ऐलान किया कि कोरोना के बाद अब तक केंद्र सरकार राहत के लिए जितने भी पैसे दे रही है, उसे मिला दिया जाए तो भारत 20 लाख करोड़ का पैकेज दे रहा है, जो हमारी जीडीपी का 10 फ़ीसदी बैठता है। साथ ही ये पैकेज उद्योग, किसान, मज़दूर, व्यापारी हर वर्ग के लिए होगा और इसकी घोषणा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण करेंगी।

यानी जैसा मैंने दिन में लिखा था- सिर्फ़ उद्योग के लिए पैकेज नहीं, हर वर्ग के लिए पैकेज मिलना चाहिए। दो बूँद ज़िंदगी की सबको चाहिए, पीएम ने ठीक वैसा ही ऐलान किया।


2. दूसरी बात जो हमने लिखी थी कि सरकार के लिए बड़ी दुविधा की स्थिति है। जान भी बचानी है और माल भी सुरक्षित रखना है, सो लॉकडाउन कुछ शर्तों के साथ खुलेगा। अलग-अलग जोन्स के अनुसार छूट मिलेगी और उद्योगों को काम शुरु करने दिया जाएगा वरना अर्थव्यवस्था का भट्ठा बैठ जाएगा।

पीएम ने क्या कहा- यहाँ भी अपने मुँह मियाँ मिट्ठू बनते हुए आपको ये बता रहा हूँ कि पीएम ने इसी लाइन पर अपनी बात आगे बढ़ाई। उन्होंने कहा कि सिर्फ़ लॉकडाउन के सहारे ज़िंदगी नहीं चल सकती। आत्मनिर्भर भारत बनाना होगा, सो लॉकडाउन--4 एक नए रंग-रूप में आएगा। 18 मई के पहले इसका ऐलान कर देंगे।

यानी जैसा मैंने कहा था कि जान के साथ-साथ सरकार माल के लिए भी चिंता करे क्योंकि भारतीय अर्थव्यवस्था कब्र में पहुँच चुकी है और लॉकडाउन अब पूरे देश में एकसमान नहीं हो सकता। हर राज्य में इसका स्वरूप अलग-अलग होगा।


3. तीसरी बात जो हमने लिखी थी कि पिछले कई दिनों से पीएम सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात कर रहे हैं और इस बार उनकी तक़रीर जुदा होगी यानी अबकी बार पीएम सभी की बातों के मद्देनज़र ऐलान करेंगे।

पीएम ने क्या कहा- प्रधानमंत्री मोदी ने भी आज अपने संबोधन में कहा कि वह सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात कर रहे हैं, सबका फ़ीडबैक मिला है, सो लॉकडाउन-४ उसी के मुताबिक़ नए ढंग वाला होगा।

यानी यहाँ भी मेरा ये अनुमान बिल्कुल सटीक बैठा कि राज्यों के मुख्यमंत्रियों की सलाह और विशेषज्ञों की बात पर गौर करने के बाद ही लॉकडाउन-4 का ऐलान किया जाएगा। बात बस इतनी रही कि पीएम ने लॉकडाउन-4 का ऐलान आज ना करके उसे 18 मई से पहले करने की बात कही। लेकिन ये लॉकडाउन कैसा होगा, उसके संकेत दे दिए। वही, जो मैंने लिखा था कि अर्थव्यवस्था को गति देनी है, सो लॉकडाउन तो हटाना होगा और परिस्थितियों के अनुसार अलग-अलग राज्यों में अलग तरह की ढील होगी।

आज दिन में पीएम मोदी के आज रात 8 बजे के संबोधन के बारे में मैंने क्या-क्या लिखा था और किस प्रकार मेरी भविष्यवाणी कहिए या अनुमान कहिए, सही हुई, अगर ये विस्तार से जानना है तो आप नीचे के लिंक को क्लिक करके पूरी बात पढ़ सकते हैं। शीर्षक है

"इधर कुआँ और उधर खाई में फँस गए हैं पीएम मोदी"


(इस पोस्ट के सभी लिंक और फोटो साभार)

Post a comment

0 Comments